Elaichi Se Garbhpat Kaise Kare

इस पोस्ट में मैंने आपको बताऊंगा की Elaichi Se Garbhpat Kaise Kare. अगर आप इलाइची के फायदे के बारे में जानना चाहते है तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

इलाइची का बहोत सारे फायदे है, गर्भपात के लिए भी इसको इस्तेमाल किया जाता है। गर्भपात के अलावा इसको अन्य बहोत जगह पर उपयोग किया जाता है।

Elaichi Se Garbhpat Kaise Kare

अगर आप जानना चाहते है की Elaichi Se Garbhpat Kaise Kare तो नीचे दिए गयी वीडियो देखके इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है।


मुझे उम्मीद है आप ऊपर दिए गयी वीडियो देखके जान गयी है की Elaichi Se Garbhpat Kaise Kare.

Elaichi Se Garbhpat Kaise Kare (Text)

इलायची के साथ गर्भपात एक घरेलू उपाय है जिसका उपयोग ज्यादातर लोग अनादि काल से बच्चे के गर्भपात में करते आ रहे हैं। लेकिन क्या यह गर्भपात कराने का सही तरीका है?

देखिए सही जानकारी के अभाव में गलत रास्तों में पड़ना आसान है, यानी अगर आपने गर्भपात कराने का सोचा है तो निःसंदेह वही पुराने घरेलू उपाय आपके दिमाग में गर्भपात के विचार पर आ गए होंगे।

सदियों से लोग इनका इस्तेमाल करते आ रहे हैं, लेकिन क्या इनसे गर्भपात हुआ है? क्या गर्भपात के लिए इलायची जैसे नुस्खे अपनाने का यह सही तरीका है।

सच तो यह है गर्भपात हो या न हो, गर्भपात के लिए इलायची जैसे घरेलू नुस्खे कभी भी गर्भपात का सही इलाज नहीं होते और आपको इनका इस्तेमाल करने से भी बचना चाहिए।

आइए जानते हैं अगर गर्भपात के लिए घरेलू नुस्खे का इस्तेमाल सही नहीं है तो गर्भपात का सही तरीका क्या है? इलायची से गर्भपात क्यों नहीं होता, गर्भावस्था के दौरान इलायची खाने के क्या फायदे और नुकसान हैं?

इलायची गर्भपात का कारण कैसे बनती है

सबसे पहले तो आप जान लें कि इलायची पर जितने भी “वैज्ञानिक शोध” हुए हैं, उनमें गर्भपात जैसी कोई बात सामने नहीं आई है।

बल्कि इलायची ही नहीं, गर्भपात का कोई भी घरेलू उपाय शिशु के गर्भपात के लिए उपयुक्त नहीं है, बल्कि यह आपके लिए जानलेवा साबित हो सकता है। मिस्ड एबॉर्शन की संभावना सबसे अधिक होती है।

इलायची के साथ गर्भपात कैसे करें

वैसे तो इलायची गर्भपात का कारण नहीं बनती है, लेकिन अगर आप जानना चाहते हैं कि लोग इलायची का इस्तेमाल गर्भपात के लिए कैसे करते थे, तो यहां कुछ तरीके दिए गए हैं।

इलायची और शहद के साथ गर्भपात

इसके अनुसार यदि आप इलायची को अच्छी तरह से पीसकर उसका चूर्ण बना लें और इस चूर्ण को शहद के साथ प्रतिदिन सेवन करने से भवन निर्माण शुरू होने तक गर्भपात हो जाता है।

इलायची और गाजर से गर्भपात

गर्भपात के इस घरेलू उपाय में आप गाजर के बीज और इलायची को रात भर पानी में भिगोकर रख दें, फिर इसे पानी में उबाल लें और इस पानी को तब तक पिएं जब तक रक्तस्राव न हो जाए।

इलायची और दालचीनी से गर्भपात

घरेलू उपाय से गर्भपात करने के लिए इलायची को पीसकर पानी में दालचीनी के साथ उबाल लें और छानकर दिन में तीन बार इसका सेवन करें।

इलायची और तुलसी से गर्भपात

यहां आपको इलायची को तुलसी के पत्तों के साथ पीसना है। फिर इसका सेवन शहद के साथ करें, ऐसा कहा जाता है कि इससे गर्भपात होता है।

गर्भावस्था के दौरान इलायची खाने के नुकसान

अधिकता किसी के लिए भी अच्छी नहीं होती है इलायची का अधिक सेवन गर्भावस्था, गर्भवती और बच्चे के लिए हानिकारक होता है इलायची खाने के ये हैं कुछ नुकसान

दवाओं का पारस्परिक प्रभाव

कुछ वैज्ञानिक शोधों का दावा है कि इलायची दवाओं के साथ प्रतिक्रिया करती है, जिससे प्रतिक्रिया भी हो सकती है। कुछ खास दवाएं जैसे- लिवर सूजन, पथरी जैसी दवाओं के साथ प्रतिक्रिया कर सकता है और वैसे भी डॉक्टर गर्भावस्था में कई तरह की दवाएं देते हैं।

त्वचा की समस्या

यदि आप सीमित मात्रा में इलायची का सेवन करते हैं तो यह आपकी त्वचा के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करेगा, लेकिन अगर इसका अधिक मात्रा में सेवन किया जाए तो यह आपको त्वचा संबंधी समस्याएं भी दे सकता है क्योंकि इलायची में तारपीन नामक पदार्थ होता है जो एलर्जी का कारण बनता है। बन गया है।

एलर्जी का खतरा

इलायची की अधिकता न केवल एलर्जी बल्कि अन्य स्वास्थ्य संबंधी दुष्प्रभावों के जोखिम को भी बढ़ाती है। कुछ परीक्षणों में इलायची से एलर्जी की भी पुष्टि हुई है। उदाहरण के लिए – जीभ में सूजन, दस्त की समस्या

गर्भावस्था के दौरान इलायची खाने के फायदे

प्रोजेस्टेरोन बढ़ाता है

गर्भावस्था के दौरान इलायची के सेवन से प्रोजेस्टेरोन भी बढ़ता है। गर्भधारण से लेकर गर्भावस्था तक बच्चे के विकास के लिए प्रोजेस्टेरोन हार्मोन भी आवश्यक है। यदि गर्भावस्था के दौरान प्रोजेस्टेरोन कम होता है, तो गर्भपात हो सकता है।

उल्टी और जी मिचलाने में उपयोगी

हाल ही में गर्भवती महिलाओं पर हुए एक शोध में उन्हें इलायची पाउडर का सेवन कराया गया। माना जाता है कि इलायची उल्टी- जी मिचलाने की समस्या से राहत दिलाती है। यह पेट दर्द और ऐंठन में भी राहत देता है।

पाचन में सहायक

इलायची में मौजूद एंटी-अल्सरोजेनिक गुण पेट की समस्याओं को ठीक करता है। इसके सेवन से लीवर भी सही रहता है। इसलिए हम कह सकते हैं कि गर्भावस्था के दौरान इलायची खाना फायदेमंद होता है।

ये भी पढ़ें:

Share this post

Leave a Comment