ISRO Ka Full Form Kya Hai – In Hindi

हैलो दोस्तों, आज मैंने इस पोस्ट में बात करने वाला हूं ISRO Ka Full Form Kya Hai. पिछली पोस्ट में बात किया है UPSC Ka Full Form क्या है और उसकी पहले की पोस्ट में बताया है की NASA Ka Full Form क्या है.

मुझे उम्मीद है की मेरी सभी पोस्ट आपको पसंद आ रही है. आज का पोस्ट ISRO Ka Full Form Kya Hai उसकी बारे में जो आपको जरुर पसंद आएगा.

ISRO Kya Hai – ISRO Ka Full Form

ISRO Ka Full Form

ISRO भारत का अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन है और इसको 15 August 1969 सन में स्थापना किया गया है. ISRO का मुख्यालय Bengaluru में है जिस पर लगभग 17 हजार वैज्ञानिक और कर्मचारी काम कर रही है.

ISRO का मुख्य काम है हमारे भारत के लिए space के बारे तकनीक उपलब्ध कराना. भारत का प्रमोचोक यानों, परिज्ञापी rockets और उपग्रहों को develope करना उसका मुख्य उद्देश्य है.

इसरो का वर्तमान डायरेक्टर K. Sivan और सबसे पहले की डायरेक्टर थी Dr. Vikram Sarabhai. इन दोनों बिज्ञानिक के सहायता से हमारा भारत Space Research के लिए बहुत ज्यादा आगे है.

इसरो भारत का space research के अलावा अन्य बहुत सारे देशों में space research के लिए सहायता करती है.

ISRO ने 2008 सन की 22 अक्टूबर में चंद्रयान-1 को चाँद पर छोड़ा था जिससे बिज्ञानिकों को चाँद की वातावरण के बारे में पाता चला है.

उसके बाद 2014 सन की 24 सितम्बर में इसरो ने मंगलयान को मंगल ग्रह पर छोड़ा था जिसको “मंगल आर्बिटर मिशन” के नाम से जाना जाता है. इस मिशन में इसरो पूरी तरह से सफल हुआ है और यह थी हमारा भारत का सबसे प्रथम ग्रहों की बीच के मिशन.

इसरो के पास दो मुख्य Rockets है जिसकी मदद से उपग्रहों को space पर छोड़ते है. इन दोनों Rockets का नाम PSLV (Polar Satellite Launch Vehicle) और GSLV (Geosynchronous Satellite Launch Vehicle).

PSLV को इस्तेमाल किया जाता है हल्के उपग्रहों को space पर छोड़ने के लिए और GSLV को भारी उपग्रहों space पर भेजने के लिए उपयोग किया जाता है.

कुछ दिन पहले यानि 22 जुलाई 2019 में इसरो ने चंद्रयान-2 को launch किया है चाँद की वातावरण और पानी के सन्धान के लिए.

चंद्रयान-2 पूरी तरह सफल नहीं हो पाया क्यूंकि चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम चाँद पर खराब लैंडिंग हुआ है यानि जैसे बिज्ञानिकों ने चाहा था लैंडर को सॉफ्ट लैंडिंग करने के लिए लेकिन यह खराब लैंडिंग हुआ है.


ISRO Ka Full Form Kya Hai

इसरो के बारे में आप बहुत कुछ जानकारी हासिल कर लिया है लेकिन ISRO Ka Full Form Kya Hai यह जानना आपके लिए बहुत जरुरी है.

ISRO Ka Full Form:

Indian Space Research Organization

I – Indian

S – Space

R – Research

O – Organization

यह तो आप जान लिया है अंग्रेजी में ISRO Ka Full Form क्या होता है, लेकिन कुछ लोग इन शब्दों का अर्थ समझ नहीं पाते इसलिए हिंदी में जानना चाहते है की इसरो का पूरा नाम क्या है.

ISRO Full Form in Hindi:

भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन

इसरो दुनिया का सबसे बड़ी 5 space agencies में से एक है और इसरो ने अब तक 102 उपग्रहों space पर भेज चूका है भारत के लिए लेकिन इन 102 उपग्रहों में चंद्रयान-2 भी शामिल है, और 269 उपग्रहों अन्य देशों के लिए space पर भेजा है लेकिन अन्य देशों में यह काम मुफ्त में नहीं किया बल्कि बहुत पैसे कमाया है इसरो ने अन्य देशों से.

इसरो का बिज्ञानिकों बहुत ज्ञानी है अन्य देशों की बिज्ञानिकों से क्यूंकि इन्होंने बहुत कम पैसे खर्च करके space program launch करती है.

कुछ दिन पहले जब इसरो ने चंद्रयान-2 launch किया है इसमें सिर्फ 978 करोड़ रूपये खर्च हुआ था. अगर यह मिशन अन्य किसी देश करते है तो इसमें से बहुत ज्यादा पैसे खर्च करना होता.


इसरो का इतिहास – ISRO Ka Full Form

भारतीय अन्तरिक्ष प्रोग्राम Dr. Vikram Sarabhai ने शुरू किया था. इसलिए उनको भारतीय अन्तरिक्ष प्रोग्राम की प्रवर्तक कहा जाता है.

Vikram Sarabhai

डॉ साराभाई ने Ahmedabad में स्तिथ Physical Research Laboratory के डायरेक्टर के रूप में देश की सभी योग्य और श्रेष्ठ बिज्ञानिकों, मानब बिज्ञानियों, समाज बिज्ञानियों को मिलाकर भारतीय space program की संचालन करने के लिए एक दल बनाया था.

इसरो को space department के द्वारा नियंत्रित किया जाता है. 1979 सन तक इसरो ने अन्तरिक्ष के लिए भारत में ही पूरी तरह Satellite बनाने में कामयाब हुआ है.

पहले इसरो ने space पर Satellite छोड़ने के लिए अन्य देशों की सहायता लेना पड़ता था, लेकिन 1980 सन में इसरो ने अपने खुदका Satellite बनाकर space पर launch कर दिया है.

इसरो ने 5 नवम्बर 2013 सन में मंगलयान को launch किया था और यह 6,660 लाख KM की यात्रा करके 2014 सन की 24 सितम्बर में सफलता के साथ मंगल ग्रह में पहुंचा था, और यह मिशन थी ISRO का ग्रह पर पहला मिशन.

यह मिशन में इसरो ने मंगलयान को पहले प्रयास में मंगल ग्रह पर छोड़ के हमारा देश भारत को दुनिया का सबसे पहले मंगल ग्रह में पहुंचने वाला देश बनाया है.


इसरो का सफलता की कहानी – ISRO Ka Full Form

इसरो ने बहुत तरह की space program का मिशन किया है और इनमे से कुछ मिशन सफल नहीं हुआ है, लेकिन ज्यादातर मिशन में इसरो पूरी तरह से सफल हुआ है.

इसरो का सभी सफल मिशन में से कुछ मिशन बहुत ज्यादा विख्यात है जो मैं आपको निचे बताने वाला हो.

1. चंद्रयान-2 : इसरो ने 22 जुलाई 2019 में चंद्रयान-2 को launch किया है जो इसरो का सबसे बड़ी अन्तरिक्ष मिशन थी. यह मिशन में चंद्रयान-2 को चाँद पर भेजने के लिए इसरो ने अपना राकेट GSLV को इस्तेमाल किया है.  

चंद्रयान-2 की मिशन पूरी तरह सफल हुआ है, लेकिन चंद्रयान-2 चाँद पर लैंड की समय सही तरह लैंड नहीं हो पाया जिससे चंद्रयान-2 की सफलता में थोड़ा कमी रह गयी.

2. आर्यभट्ट उपग्रह :  सन 1975 में इसरो ने पहली बार आर्यभट्ट उपग्रह को अन्तरिक्ष में छोड़ा था. उस समय इसरो के पास अपना राकेट नहीं था जिसकी कारण सोवियत रूस के राकेट की मदद से यह मिशन पूरा करना पड़ा.

3. चंद्रयान-1 :  2008 सन में इसरो ने चाँद की पानी और वातावरण के बारे में जानने के लिए चंद्रयान-1 को अन्तरिक्ष पर भेजा था. इस मिशन की मदद से इसरो ने दुनिया को बता पाया चाँद की पानी और वातावरण के बारे में.

4. मंगलयान : मैंने पहले आपको इस मिशन की बारे में बता दिया है. मंगलयान की मिशन में इसरो ने भारत को पहला देश बनाया है जिसने पहले की प्रयास में अपना यान मंगल ग्रह पर सफलता से छोड़ा था.

भारत का इसरो, नासा, यूरोप और रूस के space agencies के अलावा अब तक दुनिया का कोई भी देश मंगल ग्रह पर नहीं पहुंच पाया.

5. बाहुबली राकेट, GSLV :  इसरो ने अन्तरिक्ष अनुसंधान के लिए सबसे शक्तिशाली राकेट GSLV को सन 2014 में बना कर अन्तरिक्ष पर सफलता के साथ भेजा था.

यह राकेट उपग्रहों को अन्तरिक्ष पर भेजने के लिए बनाया गया है. चंद्रयान-2 को भी इस GSLV के मदद से ही चाँद पर भेजा था.


तो दोस्तों मैंने आपको बताया है की ISRO Ka Full Form Kya Hai और इसरो के बारे में बहुत कुछ जानकारी जो आपको जानना बहुत ही जरुरी था.

मेरी इस पोस्ट आपको कैसे लगा जरुर मुझे कमेंट करके बताइए, अगर इस पोस्ट के बारे में आपका कोई भी सुझाब है तो भी मुझे बता सकते है.

मुझे उम्मीद है आप इस पोस्ट पढ़के समझ गया है की ISRO Ka Full Form क्या होता है.

इस पोस्ट को Social Media जैसे Facebook, Twitter और WhatsApp के माध्यम से आपका दोस्तों के साथ Share कीजिए.

आज के लिए इतना ही, मिलते है नई एक पोस्ट के साथ.

आपका दिन शुभ हो!     धन्यवाद!

Share this post

Leave a Comment